ऑस्ट्रेलियन ओपन का पहला आयोजन 1905 में हुआ था, जब यह सिर्फ मेंस स्थान पर होता था।

यह तीसरा सबसे पुराना टेनिस टूर्नामेंट है, जो आज भी चल रहा है, पहले दो हैंगरियाई ओपन (1896) और विंबलडन (1877) हैं।

ऑस्ट्रेलियन ओपन एक ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट है और इसका स्थानांतरण मार्ग विंबलडन, रोलैंड गैरोस और अमेरिकन ओपन के बाद चौथे नंबर पर है।

सरोजिनी नायडू को पहला ऑस्ट्रेलियन ओपन टाइटल मिला था, जो महिला एकल खिलाड़ी के रूप में जीता था।

ऑस्ट्रेलियन ओपन में पहली बार मैच वान नैट के द्वारा किया गया था, जो आधिकारिक निर्णयकर्ता के रूप में काम कर रहे थे।

ऑस्ट्रेलियन ओपन में सिर्फ दो खिलाड़ी ने वान नैट के द्वारा मैच जीता है - डिक सवान्जी और क्लाय टिल्डन।

इस टूर्नामेंट में पहली बार हाइड्रोलिक टेनिस कोर्ट का उपयोग किया गया था, जो 1988 में हुआ था।

ऑस्ट्रेलियन ओपन ने 2001 में एक सर्वाधिक उच्च स्पेक्टेटर गणना की गई थी, जब 6,27,457 लोगों ने मैलबोर्न पार्क में दिखाए गए मैच देखे थे।

ऑस्ट्रेलियन ओपन में महिला एकल टाइटल का सबसे कम उम्र विजेता का रिकॉर्ड मार्टिना हिंगिस द्वारा है, जो 16 वर्ष 3 महीने और 26 दिन की उम्र में जीती थी।

एक पहली ओपन स्थल के रूप में ऑस्ट्रेलियन ओपन का उपयोग किया गया था, जब टूर्नामेंट आयोजित किया जाता था।

ऑस्ट्रेलियन ओपन में पहली बार 1988 में पूर्ण प्रतियोगिता के लिए एकरार के अंतरराष्ट्रीय उच्च स्तर का वर्गीकरण किया गया था।

स्टेडियम ओगेरिस के नामक ग्राउंड पर ऑस्ट्रेलियन ओपन का पहला आयोजन हुआ था, और यहां अब भी टूर्नामेंट आयोजित होता है।

2020 में ऑस्ट्रेलियन ओपन ने एक रिकॉर्ड बनाया जब 8,58,386 लोगों ने टूर्नामेंट का हिस्सा बनने के लिए आवेदन किया।

ऑस्ट्रेलियन ओपन में विजेताओं को कप के स्थान पर धनुष और सामान्य गोल्डन पुस्तक प्रदान की जाती है।

विंसेंट यजी और गेल मोनफिस ने ऑस्ट्रेलियन ओपन के इतिहास में सबसे लंबा मैच खेला था, जो 5 घंटे 53 मिनट तक चला।