जानवरों के मजेदार तथ्य

घोड़े खड़े खड़े सो सकते हैं। घोड़े आपस में संवाद करने के लिए चेहरे के भाव का उपयोग करते हैं।

घोड़े के बच्चे पैदा होने के कुछ ही घंटों बाद चल और दौड़ सकते हैं।

पेंग्विन के शरीर में खारे पानी को स्वच्छ जल में बदल लेने की अद्भुत क्षमता होती है।

ज्यादातर घोडा खड़ा ही रहता है। अगर घोड़ा लम्बे समय के लिए बैठे या लेटे तो बैठने की स्थिति में घोड़े के शरीर का पूरा वजन उसकी गर्दन और पेट के बीच के हिस्से पर पड़ने लगता है जिससे घोड़े के श्वसन तंत्र पर दबाव पड़ता है।

चीटियां कभी नहीं सोती और उनके फेफड़े भी नहीं होते।

क्या आप यकीन कर सकते हैं कि ध्रुवीय भालू जमीन पर 40 किलोमीटर प्रति घंटे (25 मील प्रति घंटे) और पानी में 10 किलोमीटर (6 मील प्रति घंटे) की रफ़्तार से दौड़ सकते है। और तो और ध्रुवीय भालू अपने शिकार की गंध एक मील दूर (1.6 किमी) से ही  पहचान लेते है।

चूहा बिना पानी के ऊंट से भी ज्यादा समय तक रह सकता है।

शेर को भले ही जंगल का राजा कहा जाता है, लेकिन वह गेंडे और हाथी से कभी भी लड़ना नहीं चाहता।

उल्लू केवल नीला रंग ही देख पाता है और उसकी आखें उसके दिमाग जितनी बड़ी होती है और यह कभी हिलती भी नहीं है, यानि यह फिक्स रहती हैं।