Post Cycle Therapy क्या है | Post Cycle Therapy (PCT) कैसे करे

Post Cycle Therapy In Hindi- अगर आपने Steroids का नाम सुना है तो फिर Post Cycle Therapy यानी PCT का नाम भी जरूर सुना होगा. Post Cycle Therapy क्या है और PCT कैसे की जाती है यानी Post Cycle Therapy करने का तरीका क्या है, ये हम आपको इस पोस्ट में बताने वाले हैं.

हमें हर जगह सुनने को मिलता है की Steroids का इस्तेमाल करना किसी बड़े खतरे से खाली नहीं है, लेकिन फिर भी जल्दी से जल्दी Body बनाने की चाहत रखने वाले लोग अवैध रूप से इसका इस्तेमाल करने से नहीं चूक रहे हैं. हालांकि बाद में उन्हें इनके खतरनाक नुकसान झेलने पड़ते हैं.

इसका मुख्य कारण ये है की उन्हें नहीं पता होता की स्टेरॉयड का इस्तेमाल करने के बाद PCT भी करनी होती है. और अगर उन्होंने PCT के बारे में थोडा बहुत कहीं पढ़ भी रखा हो तो उससे उन्हें पूरी तरह ये समझ नहीं आ पाता की Steroids लेने के बाद अब Post Cycle Therapy कैसे करे.

हमारे देश में भी अब Steroids का इस्तेमाल बढ़ गया है. Gym करने वाला लगभग हर सांतवा आँठवा शख्श इसके चंगुल में फंस रहा है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उन्होंने ये तो कई जगह से सुना होता है की फलां Steroid लेने से Body बहुत जल्दी बन जाती है.

लेकिन ये नहीं सुना होता की हर बार स्टेरॉयड लेने के बाद PCT यानी Post Cycle Therapy भी करनी पड़ती है. नहीं तो Body बनने के बजाय आपको इतने घातक नुकसान झेलने पड़ सकते हैं की आपके पास पछतावे के अलावा कुछ भी नहीं बचता.

अगर आपने गलती से Steroid इस्तेमाल करने के बारे में सोच ही लिया है तो Post Cycle Therapy कैसे करे,  Post Cycle Therapy क्या है और इसे करना क्यों जरूरी है, इन सब सवालों की पहले से ही पूरी जानकारी ले लीजिये.

अन्यथा ये सब आपके लिए बहुत भारी पड़ने वाला है. आधा अधूरा ज्ञान आपको अपनी मंजिल पर पहुचाने के बजाय ऐसी जगह लाकर खड़ा कर देगा, जहाँ से वापिस आना बहुत मुश्किल होगा और आपकी ज़िन्दगी बर्बाद हो सकती है.

Steroids इस्तेमाल करना कोई बच्चों का खेल नहीं है, इसके बारे में हर छोटी से छोटी जानकारी रखना बहुत जरूरी होता है. जितने भी Models, Actors और Bodybuilders इनका इस्तेमाल करते हैं, वो सब Experts की देख रेख में ही इनका इस्तेमाल करते हैं.